Ad Code

Responsive Advertisement

e₹UPI

नमस्कार दोस्तों
                     आज हम बात करेंगे एक नए पेमेंट प्लेटफार्म के बारे में जिसका नाम है - e₹upi 
 2 अगस्त को माननीय प्रधानमंत्री जी ने इस प्लेटफार्म का शुभारंभ किया। जो upi की तरह ही कार्य करेगा लेकिन यह थोड़ा अलग होगा ,
यह जिस कार्य के लिए दिया जाएगा सिर्फ उसी कार्य में उपयोग होगा , e₹upi बारकोड के रूप में कार्य करेगा।।
यह upi का ही अपडेट वर्जन है, upi की शुरुआत अप्रैल 2016 में हुई थी।

 (Npci)  National payment corporation of India

इन दोनों को हमारी देश की एक संस्था npci ने बनाया है
एनपीसीआई वह संस्था है जो हमारे देश में होने वाले सभी ऑनलाइन ट्रांजैक्शन स्कीम जानकारी और विवरण रखती है यह कहा जाए तो सारे ऑनलाइन ट्रांजैक्शन का कंट्रोल एनपीसीआई के हाथ में होता है।
 
  e₹upi प्लेटफार्म में सभी ट्रांजैक्शन QR कोड से होंगे QR कोड पर ट्रांजैक्शंस का सारा विवरण और अमाउंट होगा, जिसके द्वारा यह पता लगाया जा सकता है कि यह क्यूआर कोड किस प्रयोजन से बनाया गया है और कितनी राशि का बनाया गया है ।
  यह एक तरह का prepaid voucher है।
जिसके द्वारा सभी सरकारी योजनाओं का लाभ एक निश्चित तौर पर सही व्यक्ति तक पहुंच पाएगा ।
माना कि सरकार गरीबों को भोजन या कंबल की व्यवस्था करती है तो ,या तो उस व्यक्ति के लिए कंबल खरीद कर दिया जाए या कंबल की राशि उन तक दी जाए,
 ऐसी व्यवस्था होने से यह सुनिश्चित नहीं हो पाता की उस गरीब व्यक्ति को कंबल मिल ही जाएगा या उस कंबल की निर्धारित राशि उस व्यक्ति तक पहुंच पाएगी।।

आइए हम इसे और आसानी से समझते हैं माना कि सरकार को बेटियों की शिक्षा के लिए अनुदान देना होता है यह अनुदान चेक किया case के माध्यम से हितग्राही को प्राप्त होता है। e₹upi QR के द्वारा यदि हम इस अनुदान को भेजेंगे तो,
 जैसे कि ₹10000 किसी कन्या को उसके विद्यालय व बुक्स के लिए दिया गया है जिसमें से 5000 रुपए की राशि किताबों और 5000 की राशि शुल्क के रूप में देने हेतु आवंटित की गई है। अभी भी ऐसा ही होता है परंतु चेक या नगद के द्वारा दी गई राशि का सही उपयोग सुनिश्चित नहीं हो पाता जिसकी वजह से लाभार्थी को सुविधाओं से वंचित रहना होता है और सरकार द्वारा आवंटित राशि भी भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ जाती है। e₹upi प्लेटफार्म आने से ₹5000 का QR कोड उस किताब दुकानदार या एजेंसी के नाम का होगा जहां पर उस QR  कोड का क्लोन निर्धारित होगा  और 5000 का क्यूआर कोड उस स्कूल या कॉलेज के नाम से बनाया जाएगा जहां पर उस कन्या का दाखिला होना है इससे आवंटित राशि का पूरा उपयोग सही तरीके से हो पाएगा जबकि पहले ऐसा नहीं होता था यदि किसी हितग्राही को ₹10000 का अनुदान नगद चेक के द्वारा प्राप्त हुआ है तो यह निश्चित नहीं होता कि ₹5000 का शुल्क और ₹5000 की किताबें ही खरीदी जाएंगी ।

अब जानते हैं कि यह काम कैसे करेगा जैसे कि मैंने ऊपर बताया सरकार द्वारा किसी कन्या को ₹10000 की राशि का क्यूआर कोड अनुदान के रूप में दिया जाता है तो ₹5000 की राशि का क्यूआर विवरण किताब की एजेंसी या दुकानदार के पास भी दिया जाएगा जिसके द्वारा वह दुकानदार या एजेंसी निश्चित करेगी की यह क्यूआर किताबों के लिए सरकार द्वारा कन्या को आवंटित हुआ है और उस ₹5000 का कन्या द्वारा सही उपयोग करके किताबें ली गई हैं और वह ₹5000 दुकानदार या एजेंसी के पास चला जाएगा ऐसे ही जिस विद्यालय या महाविद्यालय में शुल्क दिया जाना है ₹5000 का यू आर विवरण उनके पास भी दिया जाएगा जिसके द्वारा विद्यालय या महाविद्यालय सुनिश्चित करेगा की कन्या द्वारा दिया गया क्यूआर शुल्क के लिए ही निर्धारित किया गया है इससे इसका सीधा लाभ कन्या को पूरा पूरा मिल सकेगा।

अब बात आती है की हर मध्यम वर्गीय गरीब व्यक्ति के पास जो सुविधाएं जाने हैं उसके पास क्यूआर कोड की व्यवस्था या एंड्रॉयड मोबाइल होना अनिवार्य है या नहीं इसके लिए क्यूआर कोड के साथ एक कुछ अंकों का कोर्ट भी दिया जाता है जो कि बारकोड ना होने की अवस्था में भी उस कोड के द्वारा अपना वेरिफिकेशन करवा कर सुविधाओं का लाभ ले सकता है।
एक और उदाहरण से इसे स्पष्ट करते हैं यदि एक किसान को सरकार के द्वारा ₹1000 का अनुदान यूरिया आदि के लिए दिया जाता है तो वह किसान  ₹1000 का यूरिया खरीदेगा या नहीं यह सुनिश्चित नहीं हो पाता उसे खाद से ज्यादा किसी और चीज की आवश्यकता हुई तो वह उस हजार रुपए का उपयोग किसी अन्य कार्यों में भी कर सकता है किंतु ₹UPI के द्वारा दिया हुआ क्यूआर कोड उसे ऐसा नहीं करने देगा क्योंकि वह ₹1000 का क्यूआर कोड किसी खास एजेंसी या फर्टिलाइजर शॉप पर ही उपयोग हो पाएगा ना कि कहीं और इससे यह सुनिश्चित हो पाता है कि सरकार द्वारा दी गई सारी योजनाओं का सही जगह पर उपयोग हो पाता है।
उम्मीद है हम आपको ₹UPI के बारे में सारी जानकारी देने में समर्थ हुए होंगे।
 पोस्ट अच्छा लगे तो लाइक करें शेयर करें कमेंट करें मिलेंगे अगले ब्लॉक पर कुछ नहीं रोचक जानकारी के साथ तब तक के लिए ,।
जय श्री राम🙏🙏



Post a Comment

0 Comments

Close Menu