Ad Code

Responsive Advertisement

प्लास्टिक मनी क्या है ?

आज हम बात करेंगे प्लास्टिक मनी के बारे में प्लास्टिक मनी कहा जाए तो डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड के बारे में debit card और credit कार्ड को ही प्लास्टिक मनी कहा जाता है।


Debit card बैंक द्वारा दिया गया होता है जिसके द्वारा आप अपने खाते में जमा रकम बिना बैंक जाए एटीएम के माध्यम से निकाल सकते हैं एटीएम के शुरुआती दौर पर यह सुविधा सिर्फ बैंक द्वारा स्थापित एटीएम पर ही मिलती थी,जैसे कि एसबीआई के एटीएम कार्ड से यदि आपको पैसे निकालने हेतु एसबीआई के एटीएम पर ही जाना पड़ता था जबकि समय के साथ और उपभोक्ताओं की सुविधाओं को देखते हुए बैंकों ने इसका समाधान जल्द ही निकाल दिया अब आप किसी भी बैंक के एटीएम से पैसे निकाल सकते हैं।

अब आप 24 घंटे पूरे सप्ताह पूरे दिन पूरे साल दिन हो या रात कहीं से भी कभी भी किसी भी एटीएम से पैसे निकाल सकते हैं यह सुविधा खाताधारकों के लिए बहुत अच्छी हो गई है और बैंकों को भी अपने ग्राहकों को सुविधा देने में बहुत आसानी हुई जहां पर बैंक से पैसे निकालने के लिए ब्रांच का होना आवश्यक था जिसकी वजह से बैंकों का विस्तार करना पड़ता था अब वही एक शाखा कोई स्थापित करने में जो रकम लगाई जाती थी बैंक कई एटीएम खोले जा सकते हैं  और ग्राहकों को भी बेहतर सुविधा मिल जाती है।

Debit card credit card की अपेक्षा ज्यादा सिक्योर होता है इसमें पिन का उपयोग किया जाता है जो 4 अंक का होता है साथ ही 16 अंकों का कार्ड नंबर भी होता है और 3 अंकों का सीवीवी कोड भी होता है इस कार्ड को बिना पिन के उपयोग नहीं किया जा सकता।।

जबकि credit card में कोई सुरक्षा नहीं होती बिना pin के भी। उपयोग किया जा सकता है ।


क्रेडिट कार्ड बैंक द्वारा दी गई एक ऐसी सुविधा है जिससे आप को क्रेडिट कार्ड के लिमिट अनुसार खर्च करना होता है, मतलब की आपके खाते में पैसे ना होने की स्थिति में क्रेडिट कार्ड का उपयोग किया जाता है, जिसमें क्रेडिट कार्ड धारक को बैंक की ओर से जो रकम निश्चित की गई है लोन के रूप में दी जाती है 30 या 40 दिनों तक लौट आना होता है परंतु 30 या 40 दिनों के उपरांत बैंक उस राशि पर अतिरिक्त ब्याज जोड़ती है जिस से बचने के लिए खाताधारक को समयावधि के भीतर उस राशि का भुगतान करना होता है एक तरह से डेबिट कार्ड लोन के रूप में आपको जो पैसा देती है इससे आपके खर्चों में वृद्धि होती है और अनुपयोगी खर्चे भी हो जाते हैं जिससे आपको फिजूलखर्ची की आदत लग सकती हैं।

इसलिए बेहतर है कि क्रेडिट कार्ड की जगह डेबिट कार्ड का उपयोग किया जाए इससे जो राशि आपके खाते में हैं उसका ही सही उपयोग आप कर सकते हैं, हां  किसी बुरे समय के लिए आप क्रेडिट कार्ड का उपयोग कर सकते हैं। क्रेडिट कार्ड से आप अपनी जरूरतों का सामान ले सकते हैं परंतु कैश विड्रोल नहीं कर सकते यदि ऐसा करते हैं तो आप पर बैंक द्वारा कई प्रकार की पेनाल्टी और चार्जेस लगाए जा सकते हैं।

डेबिट कार्ड के प्रकार

आपने देखा होगा डेबिट कार्ड कई बैंकों के अलग-अलग होते हैं जो किसी अन्य कंपनी के होते हैं जैसे विजा कार्ड रूपी कार्ड मास्टर कार्ड आदि यह कार्ड अन्य किसी कंपनी के द्वारा बैंकों के माध्यम से आप तक पहुंचाया जाता है।जोकि बैंकों के माध्यम से आपको अपनी सर्विस प्रदान करते हैं और बदले में आपसे बैंकों के माध्यम से ही चार्जेस लेती है।

इन कार्ड्स का कंट्रोल कार्ड नेटवर्क के पास होता है जोकि आपको यह सुविधा देते हैं

जैसे कि आपका खाता स्टेट बैंक ऑफ इंडिया में संचालित है आपके पास एसबीआई का एटीएम कार्ड है और आप पंजाब नेशनल बैंक के एटीएम से पैसा निकालने जाते हैं जैसे ही आप पंजाब नेशनल बैंक के एटीएम में अपना कार्य डालते हैं तो वह सारी जानकारी लेकर कार्ड नेटवर्क को भेजता और फिर कार्ड नेटवर्क सुनिश्चित करता है की खाताधारक की सारी जानकारी पीएनबी मैं ना स्थानांतरित हो वह केवल उस राशि को प्राप्त करने में सक्षम होते हैं जो खाताधारक ने सुनिश्चित की है इस तरह से हम दूसरे बैंकों में बिना अपने खाते की जानकारी दिए हुए उस बैंक के एटीएम से पैसे निकाल सकते हैं।

बैंक जो आपसे डेबिट कार्ड चार्ज लेती है वह इन कंपनियों को दिया जाता है,

मास्टर कार्ड और वीजा us की कंपनियां है और रुपे कार्ड भारत की कंपनी है जोकि पूर्णता स्वदेशी है।

मास्टरकार्ड और वीजा कार्ड के पास खाताधारकों की सारी जानकारियां होती है जोकि विदेशों मैं किसी डाटा सेंटर में होती है जिससे यह कंपनियां हमारे यह डाटा को अपने प्रचार नेटवर्क में उपयोग करते हैं।

भारत सरकार द्वारा इन कंपनियों को 6 अप्रैल 2019 मैं कहा गया था कि वह अपना डाटा सेंटर इंडिया में ही बनाएं जिससे खाताधारकों का डाटा भारत में ही सुरक्षित रहे मगर भारत सरकार के आदेशों में मास्टर कार्ड द्वारा संज्ञान ना लेना और करोना काल का हवाला देकर डाटा सेंटर भारत में ना बनाना जिसकी अंतिम तारीख 22 जुलाई 2021 दी गई थी पूरी हो गई अब भारत सरकार द्वारा मास्टर कार्ड पर नए कार्ड जारी करने पर पूर्णता प्रतिबंध लगा दिया गया जब तक वह अपना डाटा सेंटर भारत में नहीं स्थापित कर लेती तब तक यह प्रतिबंध लागू रहेगा।


 

 

 

Post a Comment

0 Comments

Close Menu