Ad Code

Responsive Advertisement

INTERNET

हेलो दोस्तों 
              मैं मनीष हाजिर हूं आपके सामने कुछ नया और जिज्ञासा पूर्ण लेकर मैं जानता हूं आप लोगों को इंटरनेट में प्रतिदिन कुछ नया और नया खोजने की जिज्ञासा और आदत हो गई है कुछ इसी तरह का हम सब के साथ ही होता है इसलिए मैं आपके लिए हमेशा कुछ नया और टॉपिक खोज कर लाता हूं ताकि आपका और मेरा संबंध यूं ही बना रहे।

दोस्तों आज हम बात करेंगे एक ऐसे विषय पर जिसके बिना आज के आधुनिक युग की परी कल्पना भी नहीं की जा सकती जी हां आप सही समझ रहे हैं आज हम बात करेंगे इंटरनेट की दोस्तों इंटरनेट एक ऐसा शब्द है जिसके बारे में सोचते ही मन में विभिन्न प्रकार की बातें गतिशील हो जाती है और इंटरनेट के बारे में अगर आपसे पूछा जाए तो आपके पास कहने को तो बहुत कुछ होगा मगर शुरुआत और अंत नहीं होगा।

इंटरनेट से जुड़ी सारी बातें आज हम इस लेख में आपके सामने प्रस्तुत करने वाले हैं। वैसे तो इंटरनेट को परिभाषित करने के लिए शब्दकोश के शब्द भी कम पड़ जाएंगे परंतु हम अपनी इस लेख में आप लोगों के सामने इंटरनेट को परिभाषित करने का प्रयास करेंगे ।
इंटरनेट को हम 3 तरह से परिभाषित कर सकते हैं।

1. नेटवर्क का समूह
2. सूचना का एक विशाल माध्यम
3. ग्लोबल कम्युनिटी

1. नेटवर्क का समूह - संपूर्ण विश्व में बहुत से कंप्यूटर हैं जोकि एक दूसरे से जुड़े हुए होते हैं जैसे कि एक ऑफिस में 50 कंप्यूटर हैं जो कि आपस में एक दूसरे से जुड़े होते हैं ऐसे ही एक दूसरे ऑफिस में 30 कंप्यूटर आपस में जुड़े हुए हैं ऐसे ही विभिन्न स्थानों पर रखे हुए सभी कंप्यूटर आपस में एक दूसरे से जुड़े हुए हैं इसे एक दूसरे उदाहरण से समझते हैं  एक ग्रुप में 50 बच्चे हैं दूसरे ग्रुप में 30 बच्चे हैं सभी बच्चे अपने अपने ग्रुप में सम्मिलित हैं अगर हम इन सारे बच्चों को एक दूसरे का हाथ पकड़ कर एक दूसरे से जोड़कर खड़ा कर देते हैं तो यह सारे बच्चे एक ही ग्रुप के हो जाएंगे अतः 50 कंप्यूटर और 30 कंप्यूटर को आपस में जोड़ कर एक 80 कंप्यूटर का ग्रुप आपस में जुड़ कर एक बड़ा नेटवर्क तैयार करेगा जिससे सूचनाओं का आदान प्रदान 80 कंप्यूटर्स में आसानी से हो जाएगा इसी तरह एक ग्रुप से दूसरे ग्रुप को जोड़े रखने का काम और आपसी सामंजस्य बना कर रखना इंटरनेट कहलाता है.. इन सभी कंप्यूटर्स को आपस में जोड़ने के लिए सर्वस का उपयोग करते हैं जोकि एक दूसरे से टीसीपी आईपी प्रोटोकॉल के द्वारा जुड़े होते हैं..

2. सूचनाओं का विशाल माध्यम-जैसा की मैंने पहले पॉइंट पर क्लियर किया सारे कंप्यूटर का छोटा-छोटा समूह मिलकर एक बड़े समूह का निर्माण करते हैं इन सभी छोटे-छोटे समूहों की सूचनाओं और तकनीक को यह बड़े नेटवर्क में प्रेषित कर पाते हैं जिससे सारी जानकारी और सूचनाओं का बेहतर तरीके से इस्तेमाल हो सकता है और यह समूह सूचनाओं का बहुत बड़ा माध्यम बन जाता है जैसे कि हमें छोटी सी सूचना अगर चाहिए तो इस विशाल नेटवर्क में आसानी से किसी न किसी माध्यम के द्वारा हम तक पहुंच जाती है इससे हमें अपनी सूचनाओं और प्रश्नों का जवाब बहुत आसानी से उपलब्ध हो जाता है नेटवर्क जितना विशाल होगा उतना ही उसमें जानकारी और सूचनाएं अच्छी और ज्यादा होंगी।

3.  Global community - जैसा कि मैंने बताया छोटे-छोटे नेटवर्क से मिलकर एक बड़ा नेटवर्क बनता है ऐसे ही बहुत से छोटे नेटवर्क मिलकर एक बड़ा नेटवर्क बनाते हैं जो कि संपूर्ण विश्व में फैला हुआ है इन छोटे-छोटे कंप्यूटर्स का समूह नेटवर्क कहलाता है और ऐसे ही नेटवर्क के समूहों को एकत्र करते एक बड़ा नेटवर्क बनाया जाता है जिससे सारे विश्व में उन सूचनाओं का आदान-प्रदान बहुत ही आसानी से एवं सरलता पूर्वक किया जा सके. जैसे कि हम यहां इंटरनेट के माध्यम से बैठे-बैठे अमेरिका की पापुलेशन और जर्मनी जैसे देश की पापुलेशन का भी आकलन कर सकते हैं क्योंकि सारा नेटवर्क ग्लोबल तरीके से एक दूसरे से जुड़ा हुआ है हम इंटरनेट के माध्यम से कहीं से भी कोई भी डाटा कलेक्ट कर सकते हैं जोकि किसी भी कंप्यूटर सर्वर के माध्यम से इंटरनेट पर उपलब्ध है 
दोस्तों जानकारी कैसी लगी हमें कमेंट करके जरूर बताएं पेज को फॉलो करें और अच्छा लगे तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करें मिलेंगे अगले ब्लॉक में कुछ नई जानकारियों के साथ तब तक के लिए ।
जय श्री राम 🙏🙏





Post a Comment

0 Comments

Close Menu