Ad Code

Responsive Advertisement

मेरी बिटिया

 मेरी बिटिया 


आप सभी का मेरे ब्लॉग में स्वागत है, आज मैं आप लोगों को अपनी कहानी के द्वारा अपनी जिन्दगी के कुछ लम्हों से अवगत कराने की कोशिश करूंगा।

ये बात उस समय की है जब मै जॉब करता था और अपने परिवार से बहुत दूर रहता था।कुछ साल तो पता ही नही चला कि कब मै अपने परिवार से बहुत दूर हो चुका हूं, पर इसका एहसास मुझे सादी के बाद हुआ और जब मेरी बेटी सालिनी का जन्म हुआ मै बीच बीच में अपनी पत्नी और बच्चों से मिलने जाया करता था और पूरे परिवार के साथ समय व बिताता था येसे ही कुछ साल बीत गया और मेरी बेटी बड़ी होने लगी और मुझे अक्सर पूछती की मां पापा जी हमारे साथ क्यों नहीं रहते हैं तब वो कहती हैं कि, वो वहां काम के कारण हम सब से दूर रहते है तब सलिनी ने कहां क्या हम लोगों से भी ज्यादा उनको काम जरूरी है, मै सब बच्चो को उनके पापा जी के साथ देखती हूं तो मुझे भी लगता है कि मेरे पापा जी भी मेरे साथ रहें मै भी उनके साथ घूमने जाऊ वो भी मुझे स्कूल छोड़ने और लेने आया करें और फिर हम दोनों साथ में खूब मस्ती और मज़ा करे बताओ ना मां पापा जी हमारे साथ क्यों नहीं रहते हैं, तब मां ने कहा कि तुम खुद ही क्यों नहीं पूछ लेती हो शायद वो तुम्हारी ये बात मान ले और वो यहां हम सब के साथ रहने लगे।


तब सालीनी ने सोचा कि वो इस बारे में अपने पापा जी से बात जरूर करेगी। जब कुछ दिन बाद उसके पापा जी घर आए तो उसने रात में अपने पापा जी से बड़े भावुक स्वर में कहा कि क्या आप हमारे साथ यहां हम सब के साथ रह सकते है, तब सलीनी के पापा जी ने सलिनि से कहा कि मेरा भी मन करता है कि मै तुम लोगों के साथ रहू पर मेरा काम ही कुछ ऐसा है कि मै चाह कर भी नहीं रह सकता। पर मैं कोशिश जरूर करूंगा कि अपनी बिटिया के साथ रह सकूं। अब चलो रात बहुत हो चुकी हैं अब तुम्हे सोना चाहिए। वो इतना सुन कर अपनी जगह में सोने चली गई, और जब वो सुबह उठी तो देखा की उसके पापा जी उसे स्कूल छोड़ने जाने के लिए तैयार बैठे थे। सलीनि जल्दी उठी और नित्य कर्म कर के स्कूल के लिए तैयार हो गई और अपने पापा के साथ मस्ती करती हुई, स्कूल पहुंच गई और पूरे मन से पढ़ाई करने लगी ये सब देख कर उसके पापा जी ने भी अपनी बिटिया के लिए अपना काम छोड़ कर वहीं अपने परिवार के साथ रहने लगे जिससे अब सालिनि भी बहुत खुश रहने लगी.......😊

आप लोगों को ये कहानी कैसी लगी कृपया कॉमेंट कर के जरूर बताए और बने रहे मेरे साथ मिलते है एक और नई कहानी के साथ तब के लिए राधे राधे 🙏🙏

Post a Comment

0 Comments

Close Menu