Ad Code

Responsive Advertisement

🙏 गुरू पूर्णिमा 2021 🙏

गुरु पूर्णिमा कब और क्यों मनाई जाती हैं?
गुरु पूर्णिमा का हमारे सनातन धर्म में बहुत मान्यता है , कहा जाता है कि हमारे सनातन धर्म के पहले गुरु महर्षि वेदव्यास जी है। वेदव्यास जी का जन्म आसाढ़ माह में पूर्णिमा के दिन हुआ था, जिस कारण से इसे आषाढ़ पूर्णिमा भी कहते है गुरू वेद व्यास जी ने ही चारो वेदों की रचना की है और मानव जीवन के कल्याण के लिए ऐसे बहुत से वेदों और पुराणों की रचना की है जिनमे से भागवत पुराण, महाभारत , मीमांसा आदि जैसे
 कई महाकाव्य लिखे है, 

गुरू पूर्णिमा के दिन क्या करते हैं? 

गुरू पूर्णिमा के दिन अपने अपने गुरुओं की पूजा अर्चना की जाती है और अपने गुरुओं से आशीर्वाद लिया जाता है कि आगे भविष्य में भी उनको अपने गुरुओं से ऐसे ही आशीर्वाद मिलता रहेगा और उन पर गुरु जनो का साथ ऐसे ही बना रहेगा। गुरू पूर्णिमा के दिन अपने गुरुओं का दर्शन बहुत शुभ माना जाता है कहते हैं कि जिन लोगों को गुरु पूर्णिमा के दिन अपने गुरुओं के दर्शन मिल जाते हैं वो भव सागर से पार हो जाते है, और येव माना जाता है कि जिन लोगों का गुरु कमजोर होता है उन्हें गुरू पूर्णिमा का व्रत आवश्य रहना चाहिए। 

गुरू पूर्णिमा का दिन और तारीख

इस साल हिन्दू पंचाग के अनुसार गुरू पूर्णिमा 23 जुलाई दिन शुक्रवार को 10 बजकर 43 मिनट से शुरु हो कर 24 जुलाई को 8 बजकर 06 मिनट दिन शनिवार तक रहेगी।


गुरू पूर्णिमा के दिन कैसे पूजा करे? 

गुरू पूर्णिमा के दिन साफ सुथरे कपड़े पहने और एक आसान तैयार करे और उस आसान पर एक सफ़ेद रंग का कपड़ा बिछा दें और अच्छत रोली से कलश की स्थापना करें और उसमें गुरू वेदव्यास जी का आवाहन करके उन्हें स्थापित करे और उनकी पूजा करे सुंदर -  फल पकवान बनाकर अर्पित करें ऐसा करने से आपको केवल उनका आशीर्वाद मिलेगा बल्कि आपका कमजोर गुरू आज के दिन से मजबूत हो जाएगा । गुरू पूर्णिमा सनातन धर्म के लिए बहुत ही शुभ अवसर है।

गुरू पूर्णिमा के दिन क्या फलहर करे? 

गुरु पूर्णिमा के दिन पीले पकवान बनाए और जरूरत मंदों में बाट दे ।और इसी का स्वयं नहीं भोग लगाए कहते हैं कि आज के दिन दिया गया दान 100 गुना अधिक बढ़ता है इसलिए दान भी आवश्य करे और मीठे फल पकवान जरूर बनाए और भोग लगाएं।

अगर मेरी पोस्ट अच्छी लगी हो तो जरूर शेयर करें , मिलते हैं कुछ और भी नए ब्लॉग के साथ तब तक। के लिए......
राधे राधे 🙏🙏

Post a Comment

0 Comments

Close Menu